रेलवे ब्रिज पर बेहोश पड़ी थी महिला, अबोध बच्ची ने यूं बचाई मां और 6 महीने के भाई की जान!

3 जुलाई को 2 साल की एक अबोध बच्ची आरपीएफ की महिला सिपाही के पास आई और उसे खींचकर रेलवे के फुटओवर ब्रिज के ऊपर बेहोश पड़ी अपनी मां और 6 महीने के भाई के पास ले गई!

रेलवे ब्रिज पर बेहोश पड़ी थी महिला, अबोध बच्ची ने यूं बचाई मां और 6 महीने के भाई की जान!

मुरादाबाद: उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद रेलवे स्टेशन पर दिल को झकझोर देने वाला नजारा सामने आया है जहां एक अबोध बच्ची ने अपनी बेहोश हुई मां सहित दुधमुहे भाई की जान बचाई है. आरपीएफ ने जीआरपी की मदद से बेहोश महिला को जिला अस्पताल में भर्ती कराया है जहां पर महिला का इलाज चल रहा है. फिलहाल महिला कौन है इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है.

महिला सिपाही को अपनी मां के पास ले गई बच्ची
आरपीएफ के सीनियर कमांडेंट की माने तो 3 जुलाई को 2 साल की एक अबोध बच्ची आरपीएफ की महिला सिपाही के पास आई और उसे खींचकर रेलवे के फुटओवर ब्रिज के ऊपर बेहोश पड़ी अपनी मां और 6 महीने के भाई के पास ले गई जहां आरपीएफ ने महिला को फर्स्ट एड देने के बाद मुरादाबाद के जिला अस्पताल में भर्ती कराया

इशारे से बेहोश पड़ी मां तक पहुंचाई बच्ची
मुरादाबाद रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म बदलने के लिए जाने वाले पुल की सीढ़ियों पर शनिवार की शाम एक अबोध बच्ची जो बोल तो नहीं पा रही थी लेकिन इशारों इशारों में कुछ कहना चाह रही थी. जिसे वहा तैनात आरपीएफ की महिलाकर्मियों ने कुछ समझ कर बच्ची के साथ उसके पीछे चलना शुरू कर दिया. फिर बच्ची ने उनका हाथ पकड़कर वहां तक पहुंचा दिया जहां उसकी मां बेहोश अवस्था में थी और एक दुधमुहां बच्चा भी मां के सीने से लिपटकर रो रहा था. महिला का एक बैग भी खुला पड़ा था. जिसे देख आरपीएफ महिलाकर्मियों के भी होश उड़ गए

मां के पास लोगों की भीड़ देखकर उछलकूद करने लगी बच्ची 
वहीं, अपनी मां के पास इतने लोग देखकर बच्ची भी उछलकूद करने लगी कि अब उसकी मां की जान बच गई. एक बेहोश महिला के साथ दो बच्चे होने की सूचना पर जीआरपी के जवान भी मौके पर पहुंच गए. बेहोश महिला को एम्बुलेंस के जरिये जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. महिला के साथ दोनों मासूम भी अस्पताल में ही हैं. अभी भी महिला बेहोशी की हालत में है. अपने बारे में कुछ बता नहीं पा रही है

क्या बोले अधिकारी?
आरपीएफ के अधिकारी ने बताया कि फिलहाल महिला कौन है. कहां की रहने वाली है? इसकी जानकारी नहीं हो पाई है. लेकिन महिला की अबोध बच्ची की वजह से उसकी और दुधमुहे बच्चे की जान जरुर बच गई है. बच्ची ने बिना कुछ बोले हुए अपनी मां की जान बचाई. जिससे समय रहते महिला को मुरादाबाद के जिला अस्पताल में भर्ती करा पाएं!