सपा सांसद आजम खान के बेटे को राहत, माफिया मुख़्तार की मुश्किलें बढ़ीं

सपा सांसद आजम खान के बेटे को राहत, माफिया मुख़्तार की मुश्किलें बढ़ीं

लंबे वक्त से कानूनी दिक्कतों में फंसे हो रहे समाजवादी पार्टी के नेता और सांसद आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम खान को सुप्रीम कोर्ट ने राहत दी है. कोर्ट ने पासपोर्ट मामले में अबदुल्ला आजम को जमानत दे दी है. ये मामला आज़म परिवार के लिए जी का जंजाल बना हुआ था. बीजेपी के नेता आकाश सक्सेना ने अब्दुल्लाह आजम खान पर 2 पासपोर्ट मामले में तहरीर दी थी.

आपको बता दें कि इससे पहले कोर्ट ने पैन कार्ड मामले में अब्दुल्ला आजम को जमानत देते हुए शिकायतकर्ता आकाश सक्सेना के बयान दर्ज करने की बात कही थी. वहीं, 2 जन्म प्रमाण मामले में पुलिस ने सप्लीमेंट चार्जशीट लगाकर धारा 120 B बढ़ाई थी, उसमें भी जमानत करानी पड़ेगी. ऐसे में अब अब्दुल्लाह आजम जिला अदालत की स्पेशल कोर्ट में शिकायतकर्ता आकाश सक्सेना का बयान दर्ज होने के बाद जेल से बाहर आ सकते हैं. 

वहीं जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रहीं हैं. जहां एक तरफ योगी सरकार उसके अवैध सम्राज्य को खत्म करने में जुटी है, तो वहीं दूसरी तरफ कानूनी शिकंजा भी लगातार कसता जा रहा है. प्रयागराज की एमपी एमएलए स्पेशल कोर्ट ने सन् 1997 में दर्ज हुए एक मुकदमे में माफिया के खिलाफ आरोप तय कर दिया है. 

दरअसल, 1 दिसंबर 1997 को वाराणसी के भेलूपुर थाने में महावीर प्रसाद ने एक एफआईआर दर्ज कराई थी. इसमें मुख्तार अंसारी को आरोपी बनाया गया था. महावीर प्रसाद की तरफ से दर्ज हुई FIR में आरोप लगाया गया था कि मुख्तार अंसारी ने 5 नवंबर 1997 की शाम करीब 5 बजे फोन से जान से मारने की धमकी दी थी. बता दें कि महावीर प्रसाद के भाई नंद किशोर रुंगटा का उस समय अपहरण हुआ था, जिसमें सवा करोड़ रुपए की रंगदारी मांगी गई थी. उसी मामले में पैरवी न करने और पुलिस को सहयोग नहीं करने की धमकी माफिया मुख्तार अंसारी ने टेलीफोन के जरिए दी थी. मुख्तार अंसारी की तरफ से कहा गया कि उसने अगर पुलिस को किसी तरह का सहयोग किया तो उसे परिवार समेत विस्फोटक लगाकर जान से मार दिया जाएगा. 

अब आप  H लाइव न्यूज   के  ऐप से अपने फोन पर पाएं Live न्यूज़ अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए लिंक में क्लिक  करे

http://gourl.fr/l/c1b0e7f2Vhk