फिरोजाबाद में बुखार का प्रकोप: स्वास्थ्य विभाग के अफसर का दावा, मच्छरों और जानवरों से जिले में फैली बीमारी

फिरोजाबाद में बुखार का प्रकोप: स्वास्थ्य विभाग के अफसर का दावा, मच्छरों और जानवरों से जिले में फैली बीमारी

फिरोजाबाद में मौतों का आंकड़ा तेजी से बढ़ने के कारण अब मंडल भर के स्वास्थ्य अधिकारियों में हड़कंप है। बुधवार को अपर निदेशक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण (एडी हेल्थ)  डॉ. एके सिंह ने प्रेसवार्ता कर बताया कि फिरोजाबाद के अस्पताल में भर्ती मरीजों के सैंपल लखनऊ पीजीआई को भेजे गए थे। इसमें 134 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है और 47 मरीज इलेक्टोस्पाइरिस बीमारी से पीड़ित मिले हैं। उन्होंने बताया कि यह एक प्रकार का संक्रमण है, जो मच्छरों के फैलने के साथ जानवरों की यूरिन से पनपने वाले वायरस से फैलता है। मेडिकल कॉलेज में निरीक्षण करने पहुंचे एडी हेल्थ आगरा डॉ. एके सिंह ने पत्रकार वार्ता में बताया कि शुरुआत में जिले में फैली बीमारी का पता नहीं लग पा रहा था।

बेंच पर इलाज कराते मरीज

घर-घर सर्वे कराना शुरू किया तो 41 स्थानों पर लार्वा मिला। यह डेंगू फैलने का बड़ा कारण है। डिहाइड्रेशन होने से भी मौतें हो रही हैं। इसके साथ ही लखनऊ में कराई गई जांच में इलेक्टोस्पाइरिस बीमारी से पीड़ित मरीज भी मिले है। प्राचार्य डॉ. संगीता अनेजा ने बताया कि यह रोग गिलहरी, भैंस अथवा अन्य जानवरों की यूरिन के वायरस से पनपता है। इसलिए इस रोग से बचने के लिए साफ-सफाई का विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।

प्रशानिक अधिकारी और विधायक

दो दिन में देखे गए 1734 मरीज, 31 में डेंगू की पुष्टि
मेडिकल कॉलेज की 31 अगस्त और एक सितंबर की रिपोर्ट तैयार की गई है। इसके अनुसार जनपद में 1734 रोगियों का परीक्षण किया गया। इसमें बुखार के 730 मरीज आए। इनमें 305 वयस्क रोगी और 300 बाल रोगी हैं। दो दिन में 53 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। 415 रोगियों की जांच में से 31 में डेंगू होने की पुष्टि हुई है।

अस्पताल पहुंचे डीएम चंद्र विजय सिंह

डेंगू-संक्रामक बीमारियों से बचाव को डीएम ने जारी की एडवाइजरी
फिरोजाबाद में फैल रहे डेंगू और अन्य संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए डीएम चंद्र विजय सिंह ने एडवाइजरी जारी की है। डीएम ने कहा कि डेंगू व चिकनगुनिया से बचाव के लिए आम जन घरों में पानी की टंकी व अन्य पात्रों में पानी का भराव नहीं होने दें। बचाव के लिए लोग घरों में रखीं पानी की टंकी को ढक्कन से कस कर बंद रखें। पेड़-पौधों और फूलदान में जमा पानी को नियमित रूप से साफ करें। मच्छर भगाने के लिये क्रीम ऐरोसॉल स्ट्रायल आदि का प्रयोग करें। सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें और बुखार आने पर पैरासीटामोल दवा का प्रयोग करें। 

मरीज को अस्पताल भेजतीं मेयर नूतन राठौर

डेंगू और वायरल के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। तीमारदार मरीजों को भर्ती कराने को अस्पताल में भटक रहे हैं। बुधवार सुबह चिकित्सकों ने झलकारी नगर की मुस्कान पुत्री मोकम सिंह को अस्पताल में भर्ती न कर घर जाने को कह दिया। कुछ देर बाद मुस्कान की नाक से खून आने के बाद परिजनों में चीखपुकार मच गई। परिजनों ने घटनाक्रम से मेयर नूतन राठौर को अवगत कराया। इस पर मेयर ने तत्काल झलकारी नगर पहुंचकर सीएमओ को फोन कर मुस्कान को भर्ती कराया। मेयर का आरोप है कि अब अस्पताल में मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है। मेयर नूतन राठौर ने बताया कि बुधवार को वह डेंगू प्रभावित क्षेत्र झलकारी नगर पहुंची तो उन्हें बताया गया कि झलकारी नगर के कई बच्चों की तबीयत बिगड़ गई है। हालांकि अस्पताल में मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है। बच्चों को दवा देकर वापस लौटा दिया जाता है। कहा जाता है कि बेड खाली नहीं है। इस संबंध में मेयर ने सीएमओ डॉ. नीता कुलश्रेष्ठ और मेडिकल कॉलेज प्राचार्या डॉ. संगीता अनेजा से बात कर एंबुलेंस को मौके पर बुलाया और बच्चों को उपचार के लिए जिला अस्पताल भेजा। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अफसरों से झलकारी नगर में स्वास्थ्य कैंप लगाने की मांग की है।