सांसद निधि से ‘कोटवा रामपट्टी’ पंचायत को मिली एंबुलेंस मे मरीज की जगह देशी शराब, जानें पूरा मामला

सांसद निधि से ‘कोटवा रामपट्टी’ पंचायत को मिली एंबुलेंस मे मरीज की जगह देशी शराब, जानें पूरा मामला

Saran : बिहार मे शराब माफिया लगातार नए नए हथकंडे अपना रहे हैं। सांसद निधि से पंचायत को मिली एम्बुलेंस से शराब की तस्करी का मामला सामने आया है।शराब माफियाओं के करतूत की वजह से छपरा से भाजपा पार्टी के सांसद राजीव प्रताप रूडी और उनके मद से दिया गया एम्बुलेंस एक बार फिर से सुर्खियों मे है।

खबर के मुताबिक जिले के भगवान बाजार थाना पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर एक एम्बुलेंस को श्यामचक इलाके मे पकड़ा और उसकी तलाशी ली तो चादर के नीचे छह बोरी देसी शराब मिली। थाने के जमादार उपेंद्र राय ने चालक को तत्काल हिरासत मे ले लिया। चालक से पूछताछ करने के बाद डोरीगंज थाना क्षेत्र के कोटवा रामपट्टी पंचायत के मुखिया जयप्रकाश सिंह सहित दो नामजद और एक अज्ञात के विरुद्ध मद्य निषेध की धारा मे मामला दर्ज कर लिया गया है।

वहीं गिरफ्तार चालक से थाना अध्यक्ष सह इंस्पेक्टर मुकेश कुमार झा ने पूछताछ की तो उसने बताया कि वह सीवान जा रहा था। गिरफ्तार चालक टाउन थाना क्षेत्र के तेलपा मोहल्ले का रहने वाला राकेश राय है। एंबुलेंस से 280 लीटर देसी शराब जब्त की गई है। वहीं पुलिस ने बताया कि अगर पुलिस अपनी गाड़ी को साइड नहीं करती तो गाड़ी क्षतिग्रस्त कर चालक गाड़ी लेकर फरार हो जाता।

बता दें कि पकड़ी गई एम्बुलेंस सांसद राजीव प्रताप रूडी के सांसद निधि से 2019 मे खरीदकर पंचायतों मे मुखिया को सुपुर्द की गई थी ताकि ग्रामीण इलाकों से बीमार लोगो को स्वास्थ्य केंद्रों पर पहुचाने मे परेशानी का सामना नही करना पड़े लेकिन हुआ इसके विपरीत। स्वास्थ्य समस्या से निजात के लिए उपलब्ध करायी गयी एम्बुलेंस से शराब ढोने का काम किया जाने लगा ।

कोरोना काल के दौरान सांसद मद की एम्बुलेंस मरीजों के इलाज की बजाय सामुदायिक केंद्र की शोभा बढ़ा रही थी। पूर्व सांसद पप्पू यादव द्वारा मामले को उठाये जाने के बाद देश भर तक इसकी गूंज उठी थी और काफी बवाल मचा था। उस वक्त एम्बुलेंस से बालू ढोने का वीडियो तक वायरल हुआ था। सांसद महोदय को काफी किङकीङी का सामना करना पड़ा था

अब एक बार फिर सारण मे एम्बुलेंस मे शराब मिलने के मामले को लेकर सियासत तेज हो गई है ‘नेता प्रतिपक्ष’ तेजस्वी यादव ने सरकार पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि अब बोलने को कुछ नहीं बचा है। पहले एम्बुलेंस से बालू की ढुलाई होती थी आज एम्बुलेंस मे शराब की ढुलाई हो रही है। सरकार अब भी कहेगी की बिहार मे शराबबंदी है। जिस गाड़ी पर मरीजों को ले जाना चाहिए उस पर शराब की ढुलाई हो रही इससे शर्मनाक कुछ भी नहीं।

इधर सांसद राजीव प्रताप रूडी ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि शपथ पत्र के जरिए पंचायत को एम्बुलेंस जिला प्रशासन ने सौंपा है। सांसद ने एम्बुलेंस के लिए मुखिया की ओर से दिया गया आवेदन पत्र, एम्बुलेंस प्राप्ति का पत्र, इकरारनामा, ड्राइवर का ड्राइविंग लाइसेंस, उसका आधार कार्ड समेत दूसरे कागजात भी दिखाया। उन्होंने बताया कि बिना कागजात के और सहमति पत्र के एम्बुलेंस सौंपी नहीं जाती है। साथ ही उन्होंने मामले के दोषियों पर कार्रवाई की मांग भी पुलिस और प्रशासन से की है। साथ ही पुलिस द्वारा इस कार्रवाई को लेकर पुलिस महकमे और जिला प्रशासन को धन्यवाद दिया है

बिहार मे शराब बंदी कानून लागू है उसके वावजूद शराब माफिया तरह तरह के हथकंडे अपनाते है यह पहला मामला नही है कि एम्बूलेंस मे पुलिस द्वारा शराब बरामद की गई है यह अलग बात है कि यह एम्बुलेंस पर भाजपा नेता राजीव प्रताप रूडी के नाम होने के कारण यह चर्चा का विषय बना हुआ है———–इसी वर्ष 16 जून को मद्य निषेध इकाई की टीम और दीदारगंज पुलिस ने संयुक्त छापेमारी अभियान चलाकर एक प्राइवेट एंबुलेंस से 108 कार्टन विदेशी शराब बरामद किया था पुलिस ने इस मामले मे दो शराब कारोबारियों को भी गिरफ्तार किया था——इसी वर्ष 5 जुलाई को मनेर पुलिस ने एक एंबुलेंस से भारी मात्रा मे विदेशी शराब बरामद की थी साथ ही पुलिस ने एंबुलेंस चालक को गिरफ्तार किया था————————————————इसी वर्षसीतामढ़ी मे 3 जुलाई को नगर थाना रीगा रोड स्थित यादव नगर के समीप एक एंबुलेंस (यूपी67एफ/118) एंबुलेंस से 855 बोतल विदेशी शराब बरामद की थी