बरेली सर्किट हाउस मे उप्र राज्य महिला आयोग की सदस्य ने की जनसुनवाई

बरेली सर्किट हाउस मे उप्र राज्य महिला आयोग की सदस्य ने की जनसुनवाई

बरेली । महिला उत्पीड़न की रोकथाम एवं पीड़ित महिलाओं को त्वरित न्याय दिलाये जाने के लिए सर्किट हाउस में बुधवार को उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य श्रीमती मिथिलेश अग्रवाल की अध्यक्षता में जनसुनवाई कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में महिलाओं की शिकायतें सुनी गयीं। उन्होंने कहा कि महिलाएं अपने आप को कमजोर व असुरक्षित न महसूस करें, बल्कि प्रत्येक क्षेत्र में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें तथा अपनी प्रतिभा का लोहा मनवायें बता दें कि मिशन शक्ति फेज तीन के अंतर्गत महिला उत्पीड़न के रोकथाम और पीड़ित महिलाओं को त्वरित न्याय दिलाने के लिए जनसुनवाई व महिला अपराधों की समीक्षा बैठक सर्किट हाउस में हुई आज श्रीमती मिथिलेश अग्रवाल सदस्या उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग लखनऊ की अध्यक्षता में मिशन शक्ति 3.0, मतदाता जागरूकता, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ एवं आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत मैथोडिस्ट गर्ल्स इंटरमीडिएट कॉलेज बरेली में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। उक्त कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्रीमती मिथलेश अग्रवाल सदस्या उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग लखनऊ, श्रीमती नीता अहिरवार जिला प्रोबेशन अधिकारी/ उप निदेशक महिला कल्याण बरेली मंडल बरेली, प्रीति पवार प्रभारी महिला थाना बरेली, श्रीमती सुनीला मेस्सी प्रधानाचार्य एवं मेथाडिस्ट गर्ल्स इंटरमीडिएट कॉलेज बरेली का समस्त स्टाफ उपस्थित रहा।अपराहन 1:00 बजे सर्किट हाउस बरेली में श्रीमती मिथलेश अग्रवाल माननीय सदस्या उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग लखनऊ की अध्यक्षता में महिला जन सुनवाई का शुभारंभ किया गया। जिसमें डॉक्टर आरडी पांडेय, अपर जिला अधिकारी (नगर), मुकेश प्रताप सिंह (पुलिस अधीक्षक अपराध), श्रीमती नीता अहिरवार जिला प्रोबेशन अधिकारी/ उप निदेशक महिला कल्याण बरेली मंडल बरेली, दीनानाथ दिवेदी (कार्यक्रम अधिकारी), डॉ स्वदेश कुमारी (डीएलओ हेल्थ), प्रीति पवार महिला थाना, सोनम शर्मा महिला कल्याण अधिकारी बरेली आदि स्टाफ उपस्थित रहा। जिसमें माननीय सदस्य के सामने 17 पीड़ितों के प्रकरण प्रस्तुत हुए जिसमें से कुछ प्रकरणों का निस्तारण माo सदस्या द्वारा संबंधित अधिकारियों से त्वरित निस्तारण कराया गया एवं अन्य प्रकरण में महोदय द्वारा पुलिस अधीक्षक अपराध से महिलाओं को उचित कानूनी सहायता देने हेतु निर्देशित किया गया एवं माननीय सदस्या महोदया द्वारा तत्काल संबंधित अधिकारियों से जिला प्रोबेशन अधिकारी एवं महिला थाने को पीड़िता की शिकायत का निस्तारण करने हेतु निर्देशित किया गया।