पुलिस की कार्रवाई:कानपुर में प्राचीन शिव मंदिर के चबूतरे पर बिरयानी बेचने में तीन पर एफआईआर, धार्मिक भावनाएं आहत होने पर महापौर ने जताई थी नाराजगी

महापौर ने एक दिन पहले मंदिर के चबूतरे पर बिरयानी बेचने पर नाराजगी जताते हुए कार्रवाई की मांग की थी।

पुलिस की कार्रवाई:कानपुर में प्राचीन शिव मंदिर के चबूतरे पर बिरयानी बेचने में तीन पर एफआईआर, धार्मिक भावनाएं आहत होने पर महापौर ने जताई थी नाराजगी

प्राचीन शिव मंदिर के चबूतरे पर बिरयानी बेचने के मामले में बजरिया पुलिस ने गुरुवार को तीन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। महापौर ने एक दिन पहले मंदिर के चबूतरे पर बिरयानी बेचने पर नाराजगी जताते हुए कार्रवाई की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं को आहत किया जा रहा है। इसके बाद मामले में कार्रवाई हुई है।

महापौर की नाराजगी पर हरकत में आई पुलिस

बेकनगंज बाबा स्वीट के पास एक प्राचीन मंदिर गिरने की सूचना पर बुधवार को महापौर नगर निगम की टीम और पुलिस ने साथ मौका-मुआयना करने गईं थी। इस दौरान उन्होंने देखा कि बाबा स्वीट के बगल सुनार वाली गली में मौजूद प्राचीन शिव मंदिर के चबूतरे पर कोई बिरयानी बेच रहा था।

इसके साथ ही मंदिर परिसर में बिरयानी पकाई जा रही थी। इसका मेयर ने विरोध जताया था और एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी। इसके बाद नजीराबाद निवासी सौरभ तिवारी ने मामले में एफआईआर दर्ज करने के लिए बजरिया थाने में तहरीर दी थी। मामले का संज्ञान लेते हुए बजरिया पुलिस ने बेकनगंज निवासी मो. सिराज, मो. नूर आलम और मो. फरीद के खिलाफ धार्मिक भावनाएं आहत करने की धाराओं में एफआईआर दर्ज की है। इसके साथ ही मामले की जांच शुरू कर दी है।

क्षेत्र के कई मंदिरों पर कब्जे का आरोप, उच्चस्तरीय जांच की मांग

एफआईआर दर्ज कराने वाले सौरभ तिवारी और उनके मित्र दर्शन पुरवा निवासी गोलू बाजपेई का आरोप है कि क्षेत्र में कई प्राचीन मंदिर थे, लेकिन लोगों ने कब्जा करके मंदिरों को गायब कर दिया है। क्षेत्र के चर्चित बिरयानी की दुकान चलाने वाले ने प्राचीन मंदिर की इमारत को गिराकर मंदिर गायब कर दिया है। मौजूदा समय में उसका मलबा भी पड़ा है। यही हाल इलाके के अन्य मंदिरों का भी है। मामले में उच्चस्तरीय जांच की मांग की है।