मीरगंज में दहेज हत्या की शिकार हुई युवती का मायके में हुआ अंतिम संस्कार पिता ने बेटी के शव को दी मुखाग्नि इसे देख ग्रामीणों और रिश्तेदारों के छलक पड़े आंसू

मीरगंज में दहेज हत्या की शिकार हुई युवती का मायके में हुआ अंतिम संस्कार पिता ने बेटी के शव को दी मुखाग्नि इसे देख ग्रामीणों और रिश्तेदारों के छलक पड़े आंसू

 मीरगंज - कस्बे में दहेज हत्या की शिकार हुई युवती का शव ससुराल पक्ष के किसी के नहीं पहुंचने पर मायके वालों को सौंप दिया गया और उन्होंने गांव किनारे बह रही दुजोड़ा नदी के घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया। इस दौरान जब पिता ने अब से छह माह पूर्व अपनी वेटी को खुशी पूर्वक विदा किया और रविवार को उसी वेटी को मुखाग्नि दी तो नाते रिश्तेदारों के अलावा ग्रामीणों के आंसू रूक नहीं पाये। पुलिस का कहना है कि युवती की पीएम रिर्पोट में फांसी लगा कर आत्म हत्या करने की रिर्पोट सामने आयी है। उसकी के तहत आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।

बता दें कि मीरगंज कस्बा के मोहल्ला मेबात टीचर कालौनी में रहने वाले कौशल कुमार सिंह के पुत्र अखंड प्रताप सिंह की पत्नी अंकिता उम्र 22 का शव संदिग्ध परिस्थितियेां में घर के कमरे में देखा गया। इस मामले में थाना फतेहगंज पश्चिमी के गांव पिपरिया निवासी कल्यान सिंह के द्वारा विगत शनिवार को मीरगंज पुलिस को तहरीर देते हुए बताया गया था कि उसने अपनी वेटी अंकिता उम्र 22 का विवाह विगत अप्रैल 2021 में अखंड प्रताप सिंह के साथ करते हुए सामथ्र्य के हिसाब से दान दहेज देकर विदा किया था। लेकिन उसके ससुराल वाले खुश नहीं थे। और आये दिन मायके से पांच लाख रूपये और बुलेट मोटर साइकिल लाने को लेकर लड़ाई झगड़ा करते रहते थे। अंकिता की मौत के बाद उसके पिता कल्यान सिंह की तहरीर पर विगत शनिवार को देर रात्रि पुलिस ने पति अखंड प्रताप सिंह, सास शशि देवी एवं देवर अदभुद सिंह के खिलाफ मुकददमा दर्ज करते हुए शव को पीएम हेतु भेज दिया। रविवार को पीएम के उपरांत ससुराल पक्ष के लोगों के नहीं होने पर युवती के शव को मायके पक्ष को सौंप दिया गया। और मृतका विवाहित युवती के शव को गांव पिपरिया के समीप बह रही दुजोड़ा नदी के घाट पर पिता कल्यान सिंह ने मुखाग्नि देकर उसका अंतिम संस्कार कर दिया। इस दौरान मौजूद हर किसी की आंखों से आंसू झलक उठे। और गुमशुम आबाज में यह बाद दिखाई दी कि जिस वेटी को जन्म देकर उसे पाल पोस कर बड़ा करके दूसरे के हबाले किया आज उसे अपने पति के कांधों पर जाना चाहिए लेकिन वह अपने पिता के कांधो पर जाकर अग्नि को समर्पित हो गयी।

इस मामले में इंस्पैक्टर दयाशंकर ने बताया कि मृतका के ससुराल पक्ष की ओर से कोई भी व्यक्ति उसके शव लेने को पीएम हाउस नहीं पहुंचा तो फिर प्रशासन के दिशा निर्देश पर उसके शव को मायके बालों के सुपर्द कर दिया गया। जिससे उसका अंतिम संस्कार सही सलामत हो सके। और पीएम रिर्पोट आने के बाद पुलिस की कार्यवाही शुरू हो जायेगी। फिलहाल सभी आरोपी फरार हैं। युवती के पिता की ओर से दी गयी तहरीर पर दहेज हत्या की धाराओं में तीन आरोपियों पति अखंड प्रताप सिंह व देवर अदभुद एवं उनकी मां शशि देवी के खिलाफ रिर्पोट पंजीकृत कर ली गयी है।

मीरगंज से संवाददाता शिवकुमार