दिग्गज उद्योगपति राहुल बजाज का 83 वर्ष की आयु में निधन.

बजाज चेतक स्कूटर के निर्माता , बजाज मोटर्स के संस्थापक देश के शीर्ष उद्योगपतियों में से एक राहुल बजाज ने 83 वर्ष की आयु में दुनिया से अलविदा कहा.

दिग्गज उद्योगपति राहुल बजाज का 83 वर्ष की आयु में निधन.

हिंदुस्तान की आवाज के बीच' हमारा बजाज' के स्लोगन को पॉपुलर बनाने वाले राहुल बजाज ने 83 वर्ष की आयु में इस दुनिया को अलविदा कहा. . वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे और कैंसर से जिंदगी की जंग लड़ रहे थे. बताया जा रहा है राहुल बजाज को निमोनिया के साथ-साथ हृदय संबंधी परेशानी भी थी .उन्हें पिछले महीने ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इलाज के दौरान उन्हें दुनिया को अलविदा कह दीया.

राहुल बजाज का जन्म 1938 में हुआ था. राहुल बजाज स्वतंत्रता सेनानी एवं सामाजिक कार्यकर्ता  जमुना लाल बजाज के पोते थे. 

राहुल बजाज ने दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से अपनी ग्रेजुएशन पूरी की इसके बाद उन्होंने मुंबई यूनिवर्सिटी से लॉ की पढ़ाई की और एमबीए की पढ़ाई करने के लिए अमेरिका के हार्वर्ड बिजनेस स्कूल गए इसके बाद 1965 में जब वह लौटकर आए और बजाज ऑटो का काम शुरू किया और 1968 में कंपनी के सीईओ बने.

उनकी तरफ से समाज को दिए गए महत्वपूर्ण योगदान के चलते उन्हें  2001 में उन्हें  पद्म भूषण से सम्मानित किया गया. राहुल बजाज 2006 - 2010 के दौरान राज्यसभा सांसद की तरह देश की सेवा भी कर चुके हैं.

राहुल बजाज करीब 50 साल तक बजाज ग्रुप के चेयरमैन बने रहे. उनके नेतृत्व में बजाज ऑटो का टर्नओवर 7.2 करोड़ से 12000 करोड़ तक पहुंच गया और देश के अग्रणी स्कूटर और दो पहिया वाहन बेचने वाली कंपनी बन गई थी. 

 देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी समेत तमाम राजनीतिक दलों और दिग्गज उद्योगपतियों ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है.

एच लाइव न्यूज़ से अभिषेक गुप्ता की खास रिपोर्ट