ग्रामीणों को जागरूक करने में जुटे पैनल अधिवक्ता

ग्रामीणों को जागरूक करने में जुटे पैनल अधिवक्ता

हिंदुस्तान लाइव न्यूज:-

अरवल:- जिले के कलेर प्रखंड में भारतीय संविधान में सभी के लिए न्याय सुनिश्चित किया गया है ,और गरीबों तथा समाज के कमजोर वर्गों के लिए निशुल्क कानूनी सहायता की प्रदान की गई है, समानता के आधार पर समाज के कमजोर वर्गों को सक्षम विधि सेवाएं प्रदान करने के लिए वर्ष 1987 में राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण का गठन किया गया उक्त बातें जिला विधिक सेवा प्राधिकार के पैनइंडिया अवेयरनेस कार्यक्रम के तहत कलेर प्रखंड क्षेत्र के मद्रासा ,आंगनबाड़ी केंद्रों एवं प्रत्येक वार्ड में आयोजित विधिक जागरूकता कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्राधिकार के पैनल अधिवक्ता डॉक्टर राजेश चंद्रा ने कहा कि नालसा का काम कानूनी सहायता कार्यक्रम लागू करना और उसका मूल्यांकन एवं निगरानी करना एवं जरूरतमंदों को कानूनी सेवाएं उपलब्ध कराना है, इसका गठन समाज के दबे कुचले व कमजोर वर्गों को निशुल्क कानूनी सेवाएं प्रदान करने के लिए की गई है, उन्होंने कहा कि जिस तरह किसी पेड़ को मजबूत होने के लिए उसका जमीन में गड़बड़ होना जरूरी है, उसी तरह परिवार को फलने फूलने एक साथ रहने के लिए बुजुर्गों की जरूरत है ,हमारे देश में बुजुर्गों के सामान के लिए नेशनल सीनियर सिटीजन दिवस मनाया जाता है, वहीं अधिवक्ता विनोद कुमार सिंह ने कहा कि समाज में महिला उत्पीड़न की बहुत घटनाएं घटित हो रही है इसके लिए विभिन्न प्रकार के धाराएं अधिनियम बनाए गए हैं, महिलाओं के निकट रिश्तेदार हो जैसे माता-पिता भाई-बहन सास-ससुर या परिवार के किसी भी सदस्य या अन्य व्यक्तियों द्वारा किया जाने वाला हिंसात्मक व्यवहार एवं अत्याचार जो नारी को शारीरिक व मानसिक रूप से अघात पहुंचाता हो महिला उत्पीड़न कराता है, दहेज उत्पीड़न समेत कई प्रकार की कुरुतियां समाज में फैली है इन सब को दूर करने के लिए सरकार ने कानून बनाए हैं, उन्होंने बच्चों के कानून के बारे में विस्तार से जानकारी दी ,इस मौके पर पारा विधिक स्वयंसेवक मोहम्मद इरफान , आंगनबाड़ी सेविका रुमाना, शमा परवीन ,आशा अरमान निशा समेत सैकड़ों ग्रामीण मौजूद रहे ।