बैराज से पानी छोड़ने के बाद पांच सेमी और बढ़ा गंगा का जलस्तर

बैराज से पानी छोड़ने के बाद पांच सेमी और बढ़ा गंगा का जलस्तर

बिजनौर बैराज से 47220 क्यूसेक पानी और छोड़ देने के बाद तिगरी गंगा व रामगंगा पोषक नहर उफान पर है। गुरुवार को गंगा का जलस्तर बढ़कर 200.10 सेंटीमीटर हो गया है। गंगा का पानी एक बार फिर से खेतों में घुसना शुरू हो गया है। गंगा में कटान हो रहा है। वहीं खादर क्षेत्र के कई गांवों के नजदीक तक एक बार फिर से पानी पहुंच गया है। जिससे ग्रामीणों की दिक्कत फिर से बढ़ गई है। किसानों को भी उनकी फसलों की चिंता सता रही है।

इस बार खादर क्षेत्र के लोगों को पानी का उतार चढ़ाव ज्यादा देखने को मिल रहा है। अचानक से पानी बढ़ जाने पर ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। वहीं जलस्तर कम होने पर गांवों में कीचड़ व गंदगी पसरी होने से संक्रामक रोगों का खतरा बढ़ रहा है। बिजनौर बैराज से 47220 क्यूसेक पानी छोड़ देने के बाद गंगा का जलस्तर गुरुवार को को बढ़कर 200.10 सेंटीमीटर हो गया। पानी की धार तेज होने की वजह से खेतों की तरफ कटान हो रहा है। कई खेतों की फसलें तो बर्बाद भी हो गई हैं। जिससे किसानों की चिंता बढ़ गई है। वहीं खादर क्षेत्र के टीकोवाली, शीशोवाली, दारानगर समेत कई गांवों के निकट तक एक बार फिर से पानी पहुंच गया है। जलस्तर कम होने पर बीते कुछ दिनों से ग्रामीणों को राहत मिली थी लेकिन जलस्तर बढ़ने पर ग्रामीणों को फिर से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जेई बाढ़ खंड अनवर बहादुर खान ने बताया कि पहाड़ों पर बारिश होने से जलस्तर बढ़ रहा है।