कानपुर में युवक का बेरहमी से कत्ल

बिठुर में दो हिस्सों में बंटा शव आंगन में मिला, पड़ोसी पर लगा अवैध संबंधों में हत्या का आरोप, आरोपी दंपति घर छोड़कर फरार

कानपुर में युवक का बेरहमी से कत्ल

कानपुर से एक सनसनीखेज खबर है। यहां बिठूर के संभरपुर मोहनपुरवा गांव में बुधवार रात 28 साल के सुरेश कुशवाहा उर्फ पुत्तन की धारदार हथियार से गला काटकर हत्या कर दी गई। सिर और धड़ अलग-अलग घर के आंगन में पड़ा मिला। पुलिस को मौके से शराब और मीट बरामद हुआ है। अंदेशा है कि वारदात के वक्त कुछ और भी लोग थे, जिन्होंने पार्टी की थी। इसी दौरान विवाद में सुरेश की हत्या की गई। परिवार वालों ने पड़ोसी दंपति पर अवैध संबंधों में हत्या का आरोप लगाया है।

आरोपी दंपति घर छोड़कर फरार
शटरिंग का काम करने वाला सुरेश अविवाहित था और घर पर अकेले ही रहता था। पड़ोस में बिसातखाने का काम करने वाले भाई राम सिंह और रमेश सिंह अपने परिवारों संग अलग घर में रहते हैं। रमेश ने बताया कि शाम को काम से लौटने के बाद वह सुरेश से साबुन मांगने उसकी झोपड़ी में गए तो देखा कि आंगन में सुरेश का शव खून से लथपथ पड़ा था। शरीर पर केवल अंडरवियर था। गर्दन कटी हुई थी। रमेश शोर मचाते हुए बाहर आए और भाई राम सिंह व आसपास के लोगों के साथ पुलिस को सूचना दी।

पुलिस और फॉरेंसिक टीम ने मौके से साक्ष्य जुटाए। बिठूर थाना प्रभारी अमिम मिश्रा ने बताया कि अवैध संबंधों में हत्या की बात सामने आ रही है। आरोपी दंपति की तलाश में छापेमारी की जा रही है। जल्द ही हत्याकांड का खुलासा होगा।

महिला के पति से सुरेश का हुआ था झगड़ा
रमेश और राम सिंह ने गांव की महिला व उसके पति पर हत्या करने का शक जताया है। गांव के लोगों ने भी बताया कि सुरेश के महिला से संबंध थे। उसके पति से उसका कई बार झगड़ा भी हो चुका था। पुलिस महिला के घर पर पहुंची तो वहां भी ताला लगा मिला। लोगों ने बताया कि शाम को महिला परिवार संग घर पर ताला लगाकर गायब है। थाना प्रभारी अमित मिश्रा ने बताया कि जिन लोगों पर परिवार ने संदेह जताया है, उनकी तलाश की जा रही है।

दो साल पहले मृतक अपहरण मामले में गया था जेल
पुलिस के मुताबिक सुरेश दो साल पहले ईश्वरीगंज गांव से किशोरी को बहला फुसलाकर भगा ले गया था। उसके परिजनों ने अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था। पांच महीने बाद उसके भाइयों ने जमानत कराई थी। इसके बाद से सुरेश संभरपुर मोहनपुरवा रह रहा था।