कानपुर में रेलवे ने एक और ब्रिज को दी मंजूरी

साउथ सिटी को जोड़ने के लिए पैरलल ओवरब्रिज बनेगा, दादानगर क्रॉसिंग में फंसकर रोजाना 2 लाख लोग होते हैं परेशान

कानपुर में रेलवे ने एक और ब्रिज को दी मंजूरी

बीते कई सालों से दादानगर पैरलल ओवरब्रिज की मांग अब पूरी होने वाली है। बीते कई सालों से लोग डिमांड कर रहे थे। अब इसको रेलवे ने अपनी मंजूरी दे दी है। जिसके बाद जल्द ही इसकी डीपीआर तैयार कर टेंडर कर कार्य शुरू कराया जाएगा। फिलहाल 24 करोड़ रुपए का इस्टीमेट तैयार किया गया है। ये 2 लेन का होगा।
बनने के बाद भी मुश्किलें बरकरार
दादा नगर क्रॉसिंग पर एक ओवरब्रिज कुछ साल पहले ही बनकर तैयार हुआ है अब इसके पैरलल दूसरा ओवरब्रिज बनाया जाएगा। एक ओवरब्रिज बनने के बाद दोनों लेन आने-जाने के लिए शुरू की गई थी, लेकिन हैवी ट्रैफिक होने की वजह से ओवरब्रिज पर भी जाम लगने लगा। इसके बाद पुल को शास्त्री चौक से विजय नगर आने के लिए वनवे कर दिया गया। ऐसे में विजय नगर चौराहा से गोविंद नगर या शास्त्रीचौक की तरफ जाने वालों को दादा नगर क्रॉसिंग को पार करना मजबूरी बन गया था।
रोजाना लगता है जाम
रेलवे का कानपुर-दिल्ली रूट होने होने की वजह से इस ट्रैक पर ट्रेनों की काफी आवाजाही है। क्रॉसिंग 24 घंटे में लगभग 10 घंटे बंद रहती है। उत्तर से साउथ सिटी का मुख्य रास्ता होने की वजह से यहां व्हीकल का लोड भी बहुत है और रोजाना जाम भी लगता है। विधायक सुरेंद्र मैथानी ने जानकारी देते हुए बताया कि रेलवे ने ओवरब्रिज को मंजूरी दे दी है। जल्द ही कार्य शुरू कराया जाएगा।
सदन में उठाया था मामला
दादा नगर पैरलल ओवरब्रिज को लेकर लंबे समय से मांग की जा रही थी, लेकिन सिद्धांत रूप से क्षेत्रीय विधायक सुरेंद्र मैथानी ने विधानसभा सदन में 301 नियम के अनुसार 28 फरवरी 2020 को यह सवाल उठाया था कि रेलवे क्रॉसिंग की वजह से जाम लगातार लगने के कारण लोगों को काफी दिक्कत उठानी पड़ रही है। पैरलल ओवरब्रिज बनाया जाए। 4 जून को आखिरी बार नार्थ सेंट्रल रेलवे और ब्रिज कारपोरेशन की टीम ने सर्वे किया और यहां पर समानांतर ब्रिज बनाने के लिए फीजिबिलिटी रिपोर्ट शासन को सौंप दी थी। जिसके बाद ओवरब्रिज को मंजूरी मिल गई।