बड़ी सफलता : ओमिक्रॉन की जांच दो घंटे में होगी, आईसीएमआर ने बनाई सौ फीसदी कारगर टेस्ट किट

ओमिक्रॉन की जांच करने वाली इस किट का निर्माण निजी-सरकारी भागीदारी के तहत पूरी तरह भारत में ही किया जाएगा और इसके लिए आईसीएमआर ने कोलकाता की कंपनी जीसीसी बायोटेक को ठेका दिया गया है।

बड़ी सफलता : ओमिक्रॉन की जांच दो घंटे में होगी, आईसीएमआर ने बनाई सौ फीसदी कारगर टेस्ट किट

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन का पता लगाना अब आसान हो जाएगा। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) डिब्रूगढ़ ने एक टेस्टिंग किट तैयार की है जिससे ओमिक्रॉन का पता सिर्फ दो घंटे में चल जाएगा। अभी इसकी जांच के लिए जीनोम सीक्वेन्सिंग करानी पड़ती है जिसमें तीन से चार दिन का समय लगता है। 


दुनियाभर में ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के बीच इसकी त्वरित जांच को लेकर सभी चिंतित थे लेकिन आईसीएमआर के पूर्वोत्तर में काम कर रहे क्षेत्रीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान केंद्र के वैज्ञानिकों ने इसका तोड़ निकाल लिया है। गौरतलब है कि भारत में ओमिक्रॉन के कुल मरीजों की संख्या 33 हो चुकी है और कई संदिग्ध मरीजों की जीनोम सीक्वेंसिंग रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है।


डॉक्टर बिश्वज्योति बोरकाकोटी के नेतृत्व में आईसीएमआर के वैज्ञानिकों ने इस टेस्ट किट का विकास किया है और इसे ओमिक्रॉन वैरिएंट के विशेष सिंथेटिक जीन फ्रेगमेंट पर आजमाया गया है और इसका नतीजा 100 प्रतिशत सटीक आया है। डॉक्टर बोरकाकोटी ने कहा कि किट का विकास इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि अभी वैरिएंट का पता लगाने के लिए टार्गेटेड सीक्वेंसिंग में 36 घंटे और टोटल जीनोम सीक्वेंसिंग में 4 से 5 दिन लगते हैं। खास बात ये है कि मरीज के सामान्य स्वाब सैंपल से ही तत्काल इसकी पहचान हो जाती है। 

किट का निर्माण निजी-सरकारी भागीदारी के तहत पूरी तरह भारत में ही किया जाएगा और इसके लिए आईसीएमआर ने कोलकाता की कंपनी जीसीसी बायोटेक को ठेका दिया गया है। इस बीच, महाराष्ट्र के पिंपड़ी-चिंचवाड़ में एक तीन साल का बच्चा भी ओमिक्रॉन की चपेट में आया है। ये उन चार लोगों में शामिल था जिनमें शुक्रवार को नए स्वरूप की पुष्टि हुई। 

राहत : पुणे में डेढ़ साल की बच्ची ठीक हुई 
सबसे अधिक मामलों वाले महाराष्ट्र से शनिवार को राहत की खबर है कि वहां डेढ़ साल की बच्ची ओमिक्रॉन से ठीक होकर घर चली गई है। इस बच्ची की बुआ नाइजीरिया से लौटकर उसके घर आई थी। जिसके बाद उसके पिता और बहन में भी ओमिक्रॉन की पुष्टि हुई थी। 

केंद्र ने राज्यों को भेजा पत्र, निगरानी बढ़ाने के निर्देश 
केंद्र सरकार ने शनिवार को राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को पत्र भेजकर जिला स्तर पर कोरोना निगरानी बढ़ाने का निर्देश दिया है। बीते दो हफ्तों में दस राज्यों के 27 जिलों में मामले बढ़ने के बाद सरकार ने सख्ती बढ़ाने को कहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने पत्र में कहा, अधिक मामलों वाले क्षेत्र की पहचान कर वहां निगरानी नियम कड़े करने को कहा। 

इसमें रात्रि कर्फ्यू लगाने, शादी समारोह में अधिक लोगों के शामिल होने पर रोक, एक जगह पर लोगों के जमावड़े पर प्रतिबंध लगाने जैसे कदम उठाने की सलाह दी है। भूषण ने कहा, तीन राज्यों के आठ जिलों में 10 फीसदी से अधिक संक्रमण दर दर्ज की गई है। पांच राज्यों के 19 जिलों में 5-10 फीसदी संक्रमण दर रही है। इन 27 जिलों में कड़ी निगरानी की जरूरत है। राज्यों से कोरोना जांच बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। 

24 घंटे में देश में 7992 मामले मिले 
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक बीते 24 घंटे में देशभर में कोरोना के 7992 नए मामले मिले और 393 लोगों की मौत हुई। सक्रिय मरीजों की संख्या 559 दिनों में सबसे कम 93277 हो गई। देश में अब तक कुल कोरोना मरीजों की संख्या 34,66,82,736 हो गई।