POLICE महकमे में बड़ा फेरबदल, 514 पुलिसकर्मी इधर से उधर

POLICE महकमे में बड़ा फेरबदल, 514 पुलिसकर्मी इधर से उधर

POLICE महकमे में बड़ा फेरबदल, 514 पुलिसकर्मी इधर से उधर

यहां प्रदेश में कोरोना का खौफ ख़तम नहीं हो रहा और ज़हरीली शराब का केहर बढ़ता ही जा रहा है। बता दें, अलीगढ़ में जहरीली शराब से मौतों का सिलसिला लगातार जारी है। आकड़ों की माने तो, अब तक जिले में 88 लोग जहरीली शराब से मौत हो चुकी है। इसी के चलते SSP कलानिधि नैथानी ने शराब कांड के बाद पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई के मामले में एक और बड़ा कदम उठाया है। इसी दौरान गुरुवार को 514 पुलिसकर्मियों के तबादले भी कर दिए गए। 

इनको मिला नया स्थान 

SSP के इस कदम के बाद महकमे में खलबली मच गई है। कई सालों से एक ही थाने पर जमे हुए कुल 514 मुख्य आरक्षी/आरक्षियों को नया स्थान दिया गया। जिनमें से 148 आरक्षी/मुख्य आरक्षी को गैर जनपद का रास्ता दिखाया गया है। जिले में एक ही थाने में दो साल से ज़्यादा तैनात 366 मुख्य आरक्षी-आरक्षी को अन्य थाना में स्थानान्तरित किया है। उच्चाधिकारियों ने शराब कांड के बाद पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई के क्रम में यह कदम उठाया है। कोतवाली नगर  -16, सासनीगेट -18, देहलीगेट-29, गांधीपार्क-11, बन्नादेवी-20, सिविल लाइन-17, क्वार्सी-18, जवां-10, गभाना-17, लोधा-16, चंडौस-06, अतरौली-20, पालीमुकीमपुर-13, हरदुआगंज-10, दादों-9, इगलास-20, मडराक-10, गोंडा-07, खैर-16, टप्पल-30, पिसावा-08, अकराबाद-19, बरला-05, गंगीरी-11, छर्रा-09, विजयगढ़-01,

ये पुलिसकर्मी हुए रवाना 

लोधा-04, गांधीपार्क-05, गोंडा-03, गभाना-07, अतरौली-09, टप्पल-05, अकराबाद-04, जवां-03, देहलीगेट-03, दादों-03, सासनीगेट-06, पालीमुकीमपुर-01, हरदुआगंज-02, सिविल लाइन-14, पिसावा-01, क्वार्सी-1, कोतवाली नगर-05, बन्नादेवी-09, बरला-05, इगलास-13, खैर-13। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया एक ही थाने में लम्बे समय से जमे पुलिस कर्मियों को तबादले किये गये हैं। जिन पुलिसकर्मियो को स्थानांतरण गैर जनपद में हो गया था, लेकिन वह रिलीव नहीं हुए थे, उनको भी रिलीव किया गया है।

यह है मौत का आकड़ा 

बता दें, अलीगढ़ में जहरीली शराब पीने से अब तक 88 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले एक हफ्ते से लगातार मौतों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। इसमें से 87 लोगों के शवों का पोस्टमार्टम कराया जा चुका है। लेकिन, प्रशासन ने केवल 35 लोगों की जहरीली शराब के सेवन से मौत होने की पुष्टि की है, बाकी मौतों को संदिग्ध मानते हुए बिसरा सुरक्षित रखते हुए जांच को आगरा भेजा है। बताते चलें, 22 लोगों की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। उधर प्रशासन ने मौत के सौदागरों पर शिकंजा कसते हुए करसुआ देशी शराब के ठेके को जेसीबी चलवाकर ध्वस्त करवा दिया। 

देशी शराब के ठेकों पर टेट्रा पैक की होगी बिक्री

आपको बता दें, जहरीली शराब पीकर हुई मौतों के बाद अब जिलेभर के सरकारी देशी शराब ठेकों से टेट्रा पैक की ही बिक्री होगी। इस दैरान बु‌धवार को DM चंद्रभूषण सिंह ने आबकारी विभाग के अधिकारियों के साथ की बैठक में यह फैसला लिया। विभाग सभी ठेकों से पुराने देशी शराब के स्टॉक को हटवाने में जुट गया है। अब यह सारा स्टॉक सील कर दिया जाएगा। बता दें, पूर्व में सरकारी ठेके से लिए गए शराब के नमूने में मिथाइल एल्कोहल के मिले होने की पुष्टि हो चुकी है। जिले में 294 देशी शराब दुकानें हैं। जिनका मासिक करीब 91 लाख लीटर का कोटा है। शराब कांड का आरोपी 50 हजार का ईनामी भाजपा नेता ऋषि शर्मा अब तक पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ सका है। पुलिस की छह टीमें बीते पांच दिनों से लगातर दबिश दे रही हैं। पुलिस ने भाजपा नेती की पत्नी पूर्व ब्लॉक प्रमुख रेनू शर्मा को जेल भेज चुकी है। अब तक 33 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।