विरोध-प्रदर्शन : दिल्ली-अमृतसर रेल-खंड पर उतरे किसान, 143 गाड़ियां प्रभावित, आज भी असर -

विरोध-प्रदर्शन : दिल्ली-अमृतसर रेल-खंड पर उतरे किसान, 143 गाड़ियां प्रभावित, आज भी असर  -

गन्ना मूल्य बढ़ाने की मांग को लेकर शनिवार को लगातार दूसरे दिन पंजाब के जालंधर में किसानों ने रेल व सड़क यातायात को जाम रखा। इसके चलते 107 ट्रेन प्रभावित हुई हैं, जबकि राष्ट्रीय  राजमार्ग पर घंटों तक वाहनों की लंबी लाइनें लगी रहीं। रद्द होने वाली ट्रेनों में दिल्ली से चलने वाली जम्मूतवी एक्सप्रेस, वंदे भारत एक्सप्रेस, उत्तर संपर्क क्रांति समेत कई प्रमुख सेवाएं शामिल हैं। 


फिरोजपुर रेल मंडल में ट्रेनों के संचालन पर सबसे अधिक असर दिख रहा है। शनिवार सुबह छह बजे तक जहां 50 ट्रेन निरस्त रहीं, तो 18 ट्रेनों को परिवर्तित रूट से गंतव्य तक पहुंचाया गया। 36 ट्रेनें अपने गंतव्य तक नहीं पहुंची और इन्हें बीच रास्ते में ही टर्मिनेट करना पड़ा। रेलवे अधिकारियों के अनुसार, शनिवार को कुल 143 ट्रेनें किसान आंदोलन की वजह से प्रभावित हुई।


बता दें कि सैकड़ों किसानों ने शुक्रवार को पंजाब सरकार पर बकाया गन्ना मूल्य दिलाने और दाम में बढ़ोतरी करने का दबाव बनाने के लिए अनिश्चित काल का आंदोलन शुरू करने की घोषणा की थी। किसानों ने जगह-जगह रेल व सड़क मार्ग बंद कर दिए थे। शनिवार को भी अपनी मांगें पूरी नहीं होने के चलते किसानों ने मार्गों को खोलने से इनकार कर दिया। राष्ट्रीय राजमार्ग पर जालंधर से फगवाड़ा के बीच धानोवाली गांव में किसानों ने सड़क बंद की, जिससे जालंधर, अमृतसर, पठानकोट के लिए वाहनों की आवाजाही बंद हो गई। हालांकि जालंधर जिला प्रशासन ने यातायात को वैकल्पिक मार्गों पर डायवर्ट कर स्थिति संभालने का प्रयास किया, लेकिन फिर भी जगह-जगह वाहनों की लंबी कतार लगी रही। 

किसानों ने जालंधर-चाहेडू सेक्शन पर रेलमार्ग रोकर लुधियाना-अमृतसर और लुधियाना-जम्मू के बीच ट्रेन आवाजाही ठप कर दी। इसके चलते अमृतसर-नई दिल्ली स्वर्ण शताब्दी एक्सप्रेस स्पेशल (02030), अमृतसर-देहरादून एक्सप्रेस स्पेशल (04664), नई दिल्ली-अमृतसर शताब्दी स्पेशल (02013) और नई दिल्ली-श्री माता वैष्णो देवी कटरा श्री शक्ति स्पेशल (02461) समेत दर्जनों ट्रेन प्रभावित रहीं।  

आज भी रहेगा ट्रेन यातायात पर असर 
आंदोलन को देखते हुए रेलवे ने रविवार को चलने वाली 30 से अधिक ट्रेनें निरस्त करने का निर्णय लिया है। रेलवे अधिकारियों के अनुसार रविवार को किसान आंदोलन वाले रूट से चलने वाली 77 ट्रेनों को प्रभावित रहने की संभावना जताई है। रविवार को नई दिल्ली-श्रीमाता वैष्णो देवी-नई दिल्ली (22439/22440), नई दिल्ली-अमृतसर-नई दिल्ली (02014/02029), हावड़ा-अमृतसर, नई दिल्ली-अमृतसर, देहरादून-अमृतसर, जलंधर सिटी-नई दिल्ली समेत 30 से अधिक ट्रेन निरस्त रहेगी। फिरोजपुर मंडल रेलमार्ग से चलने वाली 77 से अधिक ट्रेन रविवार को प्रभावित रहेंगी। अधिकारियों का कहना है कि आंदोलन खत्म होने के बाद भी दो-तीन दिनों तक ट्रेनें प्रभावित रहेंगी। लिहाजा स्टेशन के लिए निकलने से पहले ट्रेन के बारे में जानकारी हासिल कर लें। 

रक्षा बंधन के लिए जाने वाले सबसे ज्यादा प्रभावित 
रविवार को रक्षा बंधन पर्व मनाने के लिए यात्रा कर रहे रेल यात्रियों को इस नाकाबंदी का सबसे अधिक खामियाजा भुगतना पड़ा। अमृतसर रेलवे स्टेशन पर अपनी पत्नी और बच्चे के साथ बैठे एक यात्री ने कहा, हमें सुबह मैसेज मिला कि 8 बजे छूटने वाली हमारी ट्रेन रद्द कर दिया गया है। हमने दूसरी ट्रेन में टिकट बुक कराया, लेकिन आश्वस्त नहीं हैं कि यह भी जाएगी या नहीं। उन्होंने आगे कहा, हमें भोपाल जाना था। कल रक्षा बंधन का त्योहार है और हम नहीं जानते कि कैसे जाएंगे। जालंधर रेलवे स्टेशन पर देहरादून जाने के लिए पहुंचे एक अन्य यात्री भी किसान आंदोलन के कारण ट्रेन के रद्द होने से परेशान दिखाई दिए।  

रक्षा बंधन के लिए जा रहे परिवारों को सर्विस लेन से निकाला : भाकियू 
भारतीय किसान यूनियन (दोआब) के महासचिव सतनाम सिंह साहनी ने कहा कि हम रक्षा बंधन के लिए यात्रा कर रहे परिवारों को राष्ट्रीय राजमार्ग से सटी सर्विस लेन से जाने की इजाजत दे रहे हैं।